श्मशान घाट के आसपास रहने वाले लोग बोले, ‘हमें जहर दे दो’, जानिए पूरा मामला


घरों में घुस रहा श्मशान का धुंआ और गंध। पीपीई किट और अन्य समान बाहर फेकने का आरोप। घरों में हवा से उड़कर जा रही चिता की राख।

मेरठ। सूरजकुंड स्थित श्मशान घाट का बुरा हाल है। इस श्मशान घाट में जगह नहीं होने पर अब चिताएं पार्किग और बाहर तक सजाई जा रही हैं। जिससे आसपास के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आरोप है कि उनके घरों में कोरोना संक्रमण से मरे व्यक्ति की चिता की राख हवा में उड़कर जा रही है। इतना ही नहीं श्मशान से उठ रहा धुंआ आसपास के इलाके को प्रदूषित कर रहा है। आसपास के लोगों ने श्मशान घाट पहुंचकर हंगामा किया और पार्किग में जलाई जा रही लाशों का विरोध किया।

यह भी पढ़ें: 2500 रुपये सिक्योरिटी जमा कर घर ले जाएं ऑक्सीजन सिलेंडर, बस दिखाने होंगे ये डॉक्यूमेंट

लोगों का कहना था कि अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो वे पलायन करेंगे या फिर नगरायुक्त उनको और उनके परिवार के लोगों केा जहर देकर मार दें। जिस तरह के हालात हैं उससे तो उनके परिजनों पर संक्रमण का खतरा बना हुआ है। ऐसे मरने से तो अच्छा है कि हम कहीं दूसरी जगह चले जाए।

यह भी पढ़ें: सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, जमा करने होंगे ये दस्तावेज

पीपीई किट लेकर गलियों में घूम रहे आवारा जानवर

लोगों का आरोप है कि शवों की पीपीई किट और शवों को लपेटने वाली पालीथिन को लापरवाही से फेंक दिया जाता है। जिससे उनको लेकर आवारा जानवर गली और मोहल्लों में लेकर घूम रहे हैं। जिससे लोगों को और उनके बच्चों को कोरोना संक्रमण होने का खतरा बना हुआ है। वे अपने बच्चों को बड़ी मुश्किल से बचाए हुए हैं। जबकि नगर निगम और प्रशासन की ये लापरवाही उनके बच्चों की जान मुश्किल में डाल रही है। वहीं इस बारे में जब नगरायुक्त मेरठ मनीष बंसल से बात की गई तो उनका कहना था आसपास के लोगों ने प्रार्थना पत्र दिया है। उस पर कार्रवाई की जा रही है।






Show More











Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *