Eid ul Fitr 2021 – 800 साल पुरानी शाही ईदगाह पर लगातार दूसरे साल नहीं होगी ईद की नमाज


Eid ul Fitr 2021 मेरठ शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी ने सभी मुसलमानों से की घर में ही ईद की नमाज पढ़ने की अपील

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ. 2020 की तरह इस बार भी कोरोना (Coronavirus) संक्रमण के चलते शाही ईदगाह पर नमाज अदा नहीं की जाएगी। मेरठ के इतिहास में यह लगातार दूसरा मौका है, जब शाही ईदगाह में ईद (Eid ul Fitr 2021) की नमाज नहीं अदा हो सकेगी। बता दें कि मेरठ में 15वीं सदी की बनी ईदगाह में हमेशा से ईद के मौके पर नमाज अदा होती रही है, लेकिन पिछले साल से लगातार ऐसा हो रहा है कि शाही ईदगाह पर ईद के मौके पर न तो सफे बिछेगी और न खुद की इबादत में ईदगाह पर लाखों सिर सजदा होंगे। शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी ने मुसलमानों से घर में नमाज करने और इस बारे में गाइडलाइन जारी की है।

यह भी पढ़ें- हारेगा कोरोना: सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, जमा करने होंगे ये दस्तावेज

शहर काजी ने लोगों से अपील की है कि वे कोरोना संक्रमण को देखते हुए ईद के दिन घर पर ही नमाज अदा करें और लोगों से हाथ मिलाने और एक-दूसरे से गले मिलने से भी परहेज करें। उन्होंने कहा कि लोग अपने इलाके की मस्जिद में ही ईद के मौके पर नमाज अदा करें, लेकिन संक्रमण से बचने पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि लोग अधिक भीड़ न एकत्र करें। एहतियात बरते जो भी प्रशासन की गाइड लाइन है, उसके अनुसार ही नमाज अदा करें। उन्होंने कहा कि ईदगाह में नमाज नहीं होगी। उन तमाम मस्जिदों में नमाज अदा की जाए, जहां जुमे की नमाज नहीं होती हो।

कुतबुद्दीन ऐबक ने कराया था निर्माण

बता दें कि मेरठ की शाही ईदगाह करीब 800 साल पुरानी बताई जाती है। इस ईदगाह का निर्माण 1210 ईसवीं के बीच कुतबुद्दीन ऐबक ने कराया था। वे यहां ईद की नमाज पढ़ने के लिए आया करते थे। पिछले 800 साल में यह दूसरी बार है कि इस शाही ईदगाह में ईद की नमाज नहीं अदा की जाएगी। इससे पहले वर्ष 2020 में भी कोरोना संक्रमण के चलते ईद की नमाज नहीं अदा हो सकी थी।

यह भी पढ़ें- कोरोना काल में गर्भवती महिलाओं हाइपरटेंशन से रहें दूर, डॉक्टर की सलाह- खुद को रखें सकारात्मक, डाइट में शामिल करें यह आहार







Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *