कोरोना पर वार : डीआरडीओ पानीपत में बनाएगा 500 से 1000 बेड का कोविड अस्पताल


अमर उजाला नेटवर्क, चंडीगढ़
Published by: दुष्यंत शर्मा
Updated Wed, 21 Apr 2021 03:03 AM IST

ख़बर सुनें

हरियाणा सरकार ने कोविड-19 के मामलों में हो रही वृद्धि से उत्पन्न किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। मरीजों को पर्याप्त चिकित्सा व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पानीपत में 500 से 1000 बेड का कोविड अस्पताल बनेगा। इसकी स्थापना डीआरडीओ करेगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने डीआरडीओ अधिकारियों के साथ इस बारे में बातचीत की है। इस अस्पताल का उपयोग आपातकालीन स्थिति में किया जाएगा।

 मुख्यमंत्री ने मंगलवार को ‘हरियाणा की बात’ कार्यक्रम में जनता को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। अफवाहों से बचें। कोरोना से बचाव के लिए सभी तरह के नियमों का सख्ती से पालन अवश्य अमल में लाया जाएगा। उन्होंने श्रमिकों से आग्रह किया है कि वे निश्चिंत होकर अपने कार्य में लगे रहें, किसी प्रकार से घबराने की जरूरत नहीं है। उन्हें किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं आने दी जाएगी। सरकार आपके साथ खड़ी है, प्रदेश छोड़कर न जाएं।

उन्होंने कहा कि पिछले साल लॉकडाउन लगने के कारण अर्थव्यवस्था का चक्र रुकने से कई श्रमिकों को समस्या का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार मजदूरों और कामगारों विशेषकर दैनिक और मासिक वेतन पर काम करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए हरियाणा में कोई लॉकडाउन नहीं लगाएंगे। कोरोना मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है, यह चिंताजनक है। पिछले डेढ़ महीने में एक दिन में कोरोना के नए मामलों की संख्या लगभग 7000 तक पहुंच गई है।

आक्सीजन की कोई कमी नहीं
 सीएम ने कहा कि अस्पतालों में अभी ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। पानीपत के ऑक्सीजन प्लांट में लिक्विड ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है। इसके साथ ही ऑक्सीजन गैस की उपलब्धता को भी सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किया जा रहा है। जिनके पास घर में आइसोलेशन की व्यवस्था नहीं हैं, उनके लिए 526 जिला कोविड केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों में लगभग 45 हजार बेड की व्यवस्था है।

प्रदेश में 281 कोविड अस्पताल हैं, जिनमें लगभग 21 हजार बेड हैं। निजी अस्पतालों से भी अपील की गई है कि वे पहली प्राथमिकता कोरोना मरीजों को दें। निजी अस्पतालों के लिए कोरोना के इलाज के खर्च की सीमा 8 हजार रुपये से लेकर 18 हजार रुपये तक प्रति दिन निर्धारित की गई है।

 टेस्टिंग और वैक्सीनेशन पर जोर
 मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में टेस्टिंग की संख्या बढ़ाकर लगभग 40,000 टेस्ट प्रतिदिन कर दी गई है। इसके अलावा प्रदेश में प्रतिदिन 70 हजार से ज्यादा लोगों को कोविड-19 वैक्सीन लगाई जा रही है। अब तक लगभग 33 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इसी कड़ी में 20 अप्रैल से अगले 5 दिनों तक वैक्सीन का महाअभियान चलाया जाएगा, जिसमें अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के 1 मई से 18 साल से ऊपर आयु वाले सभी लोगों को कोविड का टीका लगाने के निर्णय पर भी आभार व्यक्त किया।

विस्तार

हरियाणा सरकार ने कोविड-19 के मामलों में हो रही वृद्धि से उत्पन्न किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। मरीजों को पर्याप्त चिकित्सा व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पानीपत में 500 से 1000 बेड का कोविड अस्पताल बनेगा। इसकी स्थापना डीआरडीओ करेगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने डीआरडीओ अधिकारियों के साथ इस बारे में बातचीत की है। इस अस्पताल का उपयोग आपातकालीन स्थिति में किया जाएगा।

 मुख्यमंत्री ने मंगलवार को ‘हरियाणा की बात’ कार्यक्रम में जनता को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। अफवाहों से बचें। कोरोना से बचाव के लिए सभी तरह के नियमों का सख्ती से पालन अवश्य अमल में लाया जाएगा। उन्होंने श्रमिकों से आग्रह किया है कि वे निश्चिंत होकर अपने कार्य में लगे रहें, किसी प्रकार से घबराने की जरूरत नहीं है। उन्हें किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं आने दी जाएगी। सरकार आपके साथ खड़ी है, प्रदेश छोड़कर न जाएं।

उन्होंने कहा कि पिछले साल लॉकडाउन लगने के कारण अर्थव्यवस्था का चक्र रुकने से कई श्रमिकों को समस्या का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार मजदूरों और कामगारों विशेषकर दैनिक और मासिक वेतन पर काम करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए हरियाणा में कोई लॉकडाउन नहीं लगाएंगे। कोरोना मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है, यह चिंताजनक है। पिछले डेढ़ महीने में एक दिन में कोरोना के नए मामलों की संख्या लगभग 7000 तक पहुंच गई है।

आक्सीजन की कोई कमी नहीं

 सीएम ने कहा कि अस्पतालों में अभी ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। पानीपत के ऑक्सीजन प्लांट में लिक्विड ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है। इसके साथ ही ऑक्सीजन गैस की उपलब्धता को भी सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किया जा रहा है। जिनके पास घर में आइसोलेशन की व्यवस्था नहीं हैं, उनके लिए 526 जिला कोविड केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों में लगभग 45 हजार बेड की व्यवस्था है।

प्रदेश में 281 कोविड अस्पताल हैं, जिनमें लगभग 21 हजार बेड हैं। निजी अस्पतालों से भी अपील की गई है कि वे पहली प्राथमिकता कोरोना मरीजों को दें। निजी अस्पतालों के लिए कोरोना के इलाज के खर्च की सीमा 8 हजार रुपये से लेकर 18 हजार रुपये तक प्रति दिन निर्धारित की गई है।

 टेस्टिंग और वैक्सीनेशन पर जोर

 मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में टेस्टिंग की संख्या बढ़ाकर लगभग 40,000 टेस्ट प्रतिदिन कर दी गई है। इसके अलावा प्रदेश में प्रतिदिन 70 हजार से ज्यादा लोगों को कोविड-19 वैक्सीन लगाई जा रही है। अब तक लगभग 33 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इसी कड़ी में 20 अप्रैल से अगले 5 दिनों तक वैक्सीन का महाअभियान चलाया जाएगा, जिसमें अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के 1 मई से 18 साल से ऊपर आयु वाले सभी लोगों को कोविड का टीका लगाने के निर्णय पर भी आभार व्यक्त किया।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *