भारत-नेपाल सीमा : भारतीय युवक की मौत के बाद सीमावर्ती क्षेत्र में तनाव, पेट्रोलिंग बढ़ाई गई


एसएसबी और पुलिस की पेट्रोलिंग बढ़ाई
– फोटो : अमर उजाला।

ख़बर सुनें

नेपाल सीमा पर भारतीय युवक की गोली लगने से मौत का मामला दो दिन बाद भी नहीं सुलझ सका, जिससे तनाव की स्थिति बनी हुई है। हालांकि दोनों देशों के अफसरों के बीच हुई बैठक में दबाव बनाने के बाद शुक्रवार रात नेपाल पुलिस ने सीमा पर आकर युवक का शव भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया। 

जिला प्रशासन के अधिकारी शव लेकर गांव पहुंचे और परिवार वालों के सुपुर्द कर दिया। रात में युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। तनाव के चलते शनिवार को भी सीमा पर आवाजाही सामान्य नहीं हो सकी। तनाव को देखते हुए सीमावर्ती इलाके में एसएसबी और पुलिस की पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है।

नेपाल पुलिस की गोली लगने से बृहस्पतिवार को हजारा थाना क्षेत्र के टिल्ला नंबर चार निवासी गोविंदा (22) की मौत हो गई थी। नेपाल पुलिस ने युवक और उसके साथियों पर मादक पदार्थ की तस्करी के लिए सीमा में घुसने का आरोप लगाया था, जबकि परिवार वाले खेत पर काम करने को जाते वक्त कहासुनी होने पर भारतीय सीमा में गोली चलाने की बात कह रहे हैं। यह घटना दो देशों से जुड़ी होने के कारण शासन तक खलबली मच गई थी। 

तस्करी का मामला बताते हुए नेपाल पुलिस कार्रवाई करने में जुटी थी। वहीं परिवार स्थानीय अधिकारियों से शव को लेकर गुहार लगा रहा था। शुक्रवार को नेपाल के कंचलनपुर जिले के पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी और भारतीय अधिकारियों की सीमावर्ती इलाके में घंटों बैठक चली। इसमें युवक का शव परिजन को सुपुर्द दिए जाने की बात भारतीय अधिकारियों ने रखी। नेपाल के अधिकारियों ने पहले पोस्टमार्टम कराने का हवाला दिया। 
इस पर भारतीय अधिकारियों ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव जल्द से जल्द लौटाने को दबाव बनाया। इसका असर रहा कि नेपाल पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शुक्रवार रात नौ बजे लखीमपुर के अंतर्गत गौरीफंटा बार्डर पर लेकर आई और वहां पहले से मौजूद भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया था। भारतीय अधिकारियों ने परिवार गांव जाकर शव परिजन के सुपुर्द कर दिया। फिर परिवार ने रात में ही शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

मृतक के दोनों साथियों को पूछताछ के बाद छोड़ा
घटना के वक्त मृतक के साथ मौजूद टिल्ला नंबर चार के निवासी रेशम सिंह और पप्पू को शुक्रवार को हिरासत में लिया था। नेपाल पुलिस की तस्करी और फिर गोली चलने से जुड़ी कहानी को लेकर सच का पता लगाने का प्रयास किया गया। देर रात तक दोनों से भारतीय पुलिस की टीमें पूछताछ करती रहीं। उनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं निकला था। उन दोनों ने नेपाल पुलिस द्वारा रोकने के बाद बेवजह कहासुनी कर गोली चलाने की बात कही। 

स्थानीय अधिकारियों को उनसे हुई पूछताछ में किसी तरह के अपराध में संलिप्तता नहीं मिली है। इस पर दोनों को क्लीन चिट देकर परिवार वालों के सुपुर्द कर दिया है। हालांकि भारतीय अधिकारियों का यह भी कहना है कि अगर नेपाल पुलिस उन लोगों से पूछताछ करना चाहेगी, तो कर सकती है। वहीं गोली लगने से घायल दूसरे युवक गुरमेज का लखनऊ के अस्पताल में इलाज चल रहा है। उसकी तबीयत पहले से ठीक बताई जा रही है। मगर अभी इलाज चल रहा है।

नेपाल जाने को संयुक्त टीम करती रही तैयारी, बाद में टाला
एक दिन पहले हुई बैठक में यह तय हुआ था कि भारतीय अधिकारी, मृतक का परिवार, ग्रामीणों की एक संयुक्त टीम नेपाल में घटनास्थल पर जा सकती है। कोई सवाल है तो उसका भी नेपाल के अधिकारी जवाब देंगे। इसे लेकर शनिवार को भारतीय अधिकारी और परिवार के लोग नेपाल जाने की तैयारी कर चुके थे। मगर दोपहर तक नेपाल के अधिकारियों से पहले संपर्क नहीं हो सका। बाद में समय के अभाव में मामला टाल दिया गया। अब नेपाल के अधिकारी दोबारा समय देंगे। उस दिन टीम भारत से नेपाल भेजी जाएगी।
सीमा पर एसएसबी की विशेष पेट्रोलिंग रहेगी जारी भारत-नेपाल सीमा पर घटना के बाद से आवाजाही कम हुई है। दोनों तरफ के लोग कम ही आवाजाही कर रहे हैं। मगर सुरक्षा इंतजाम जरूर सख्त कर दिए गए हैं। शव का अंतिम संस्कार होने के बाद अफसर तो लौट गए। मगर शनिवार को भी एसएसबी की विशेष पेट्रोलिंग जारी रही। पुलिस भी निगरानी में जुटी रही। निगरानी के दौरान सीमा पर आने-जाने वालों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है।

सीमा पर हालात अब पूरी तरह सामान्य हैं। मगर विशेष पेट्रोलिंग कराई जा रही है। कोरोना महामारी के चलते आवाजाही पर सतर्कता बरतने के निर्देश भी दिए है। – अमनदीप सिंह, डिप्टी कमांडेंट एसएसबी

शव वापस लाने को एक दिन पूर्व हुई बैठक में वार्ता की गई थी। जिसके बाद नेपाल के अधिकारियों ने शव भारतीय सीमा पर आकर दे दिया। मृतक के दोनों साथियों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया है। घायल की हालत में पहले से सुधार है। सीमा पर तनाव की स्थिति नहीं है। एहतियातन सुरक्षा बढ़ाई गई है। शनिवार को एक टीम नेपाल जानी थी। मगर समय के अभाव के चलते जाने का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया। नेपाल के अधिकारियों से जल्द दोबारा समय लेकर टीम को भेजा जाएगा। – जयप्रकाश, एसपी

नेपाल सीमा पर भारतीय युवक की गोली लगने से मौत का मामला दो दिन बाद भी नहीं सुलझ सका, जिससे तनाव की स्थिति बनी हुई है। हालांकि दोनों देशों के अफसरों के बीच हुई बैठक में दबाव बनाने के बाद शुक्रवार रात नेपाल पुलिस ने सीमा पर आकर युवक का शव भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया। 

जिला प्रशासन के अधिकारी शव लेकर गांव पहुंचे और परिवार वालों के सुपुर्द कर दिया। रात में युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। तनाव के चलते शनिवार को भी सीमा पर आवाजाही सामान्य नहीं हो सकी। तनाव को देखते हुए सीमावर्ती इलाके में एसएसबी और पुलिस की पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है।

नेपाल पुलिस की गोली लगने से बृहस्पतिवार को हजारा थाना क्षेत्र के टिल्ला नंबर चार निवासी गोविंदा (22) की मौत हो गई थी। नेपाल पुलिस ने युवक और उसके साथियों पर मादक पदार्थ की तस्करी के लिए सीमा में घुसने का आरोप लगाया था, जबकि परिवार वाले खेत पर काम करने को जाते वक्त कहासुनी होने पर भारतीय सीमा में गोली चलाने की बात कह रहे हैं। यह घटना दो देशों से जुड़ी होने के कारण शासन तक खलबली मच गई थी। 

तस्करी का मामला बताते हुए नेपाल पुलिस कार्रवाई करने में जुटी थी। वहीं परिवार स्थानीय अधिकारियों से शव को लेकर गुहार लगा रहा था। शुक्रवार को नेपाल के कंचलनपुर जिले के पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी और भारतीय अधिकारियों की सीमावर्ती इलाके में घंटों बैठक चली। इसमें युवक का शव परिजन को सुपुर्द दिए जाने की बात भारतीय अधिकारियों ने रखी। नेपाल के अधिकारियों ने पहले पोस्टमार्टम कराने का हवाला दिया। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *