जहरीली शराब से मौत का मामला: दो और लोगों की गई जान, आजमगढ़ में 19 और अंबेडकरनगर में 5 मौतें


अमर उजाला नेटवर्क, आजमगढ़
Published by: गीतार्जुन गौतम
Updated Wed, 12 May 2021 12:37 PM IST

सार

मित्तूपुर पुलिस चौकी के पास ही एक अवैध शराब कारोबारी द्वारा कोरोना कर्फ्यू के दौरान अवैध शराब की बिक्री की जा रही थी। आरोप है कि शराब की बिक्री पुलिस की शह पर हो रही थी।

घटना के बाद मौके पर पुलिस और मौजूद लोग।
– फोटो : अमर उजाला।

ख़बर सुनें

आजमगढ़ जिले में पवई थाना क्षेत्र के मित्तूपुर बाजार में हुए जहरीली शराब कांड में मौत का सिलसिल अभी जारी है। बुधवार की सुबह भी दो लोगों ने दम तोड़ दिया। वहीं, आधा दर्जन से अधिक लोग विभिन्न अस्पतालों में अपना इलाज करा रहे है। दो की हालत काफी गंभीर बतायी जा रही है।

मित्तूपुर पुलिस चौकी के पास ही एक अवैध शराब कारोबारी द्वारा कोरोना कर्फ्यू के दौरान अवैध शराब की बिक्री की जा रही थी। आरोप है कि शराब की बिक्री पुलिस की शह पर हो रही थी। शराब की दुकानों के बंद रहने के चलते लोग इस अवैध कारोबारी से शराब खरीद कर पी भी रहे थे। जिसे पीने से रविवार की शाम से लोगों के बीमार पड़ने और सोमवार से मरने का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह बुधवार को भी नहीं रूका।

बुधवार को भी मित्तूपुर निवासी पप्पू खटिक(8) पुत्र सीताराम खटिक ने सुबह दम तोड़ दिया। वहीं रामपुर मित्तूपुर निवासी राम प्यारे(45) की भी बुधवार की सुबह ही मौत हो गई। जहरीली शराब कांड में दो और मौत से जिले में मरने वालों की संख्या 17 से बढ़ कर 19 पर पहुंच गई है। वहीं पांच लोगों की अंबेडकरनगर में भी मौत हुई है।

मौत के सिलसिले पर विराम न लगने से मित्तूपुर व आसपास के ग्रामों में अभी भी हड़कंप मचा हुआ है। पुलिस दोषियों पर कार्रवाई करने और बीमार लोगों को इलाज की व्यवस्था कराने के बजाए घटना को ही दबाने की कवायद में जुटी नजर आई। कहने को तो पूरे क्षेत्र में चप्पे-चप्पे पर फोर्स की तैनाती है, लेकिन राहत व बचाव का कोई भी कार्य अब तक क्षेत्र में नहीं शुरू किया जा सका है। वहीं दो गंभीर रामफल व रवि की हालत ज्यादा खराब हो गई है। इनके अलावा भी आधा दर्जन भर लोग विभिन्न अस्पतालों में जीवन मौत से संघर्ष कर रहे है।

विस्तार

आजमगढ़ जिले में पवई थाना क्षेत्र के मित्तूपुर बाजार में हुए जहरीली शराब कांड में मौत का सिलसिल अभी जारी है। बुधवार की सुबह भी दो लोगों ने दम तोड़ दिया। वहीं, आधा दर्जन से अधिक लोग विभिन्न अस्पतालों में अपना इलाज करा रहे है। दो की हालत काफी गंभीर बतायी जा रही है।

मित्तूपुर पुलिस चौकी के पास ही एक अवैध शराब कारोबारी द्वारा कोरोना कर्फ्यू के दौरान अवैध शराब की बिक्री की जा रही थी। आरोप है कि शराब की बिक्री पुलिस की शह पर हो रही थी। शराब की दुकानों के बंद रहने के चलते लोग इस अवैध कारोबारी से शराब खरीद कर पी भी रहे थे। जिसे पीने से रविवार की शाम से लोगों के बीमार पड़ने और सोमवार से मरने का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह बुधवार को भी नहीं रूका।

बुधवार को भी मित्तूपुर निवासी पप्पू खटिक(8) पुत्र सीताराम खटिक ने सुबह दम तोड़ दिया। वहीं रामपुर मित्तूपुर निवासी राम प्यारे(45) की भी बुधवार की सुबह ही मौत हो गई। जहरीली शराब कांड में दो और मौत से जिले में मरने वालों की संख्या 17 से बढ़ कर 19 पर पहुंच गई है। वहीं पांच लोगों की अंबेडकरनगर में भी मौत हुई है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *